सदन कसाई  

सदन कसाई
Blankimage.jpg
पूरा नाम सदन कसाई
मृत्यु स्थान जगन्नाथ पुरी
कर्म भूमि भारत
प्रसिद्धि भक्त
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख जगन्नाथ मंदिर पुरी, जगन्नाथ पुरी
अन्य जानकारी सदन कसाई को भगवन्नाम-जप और हरि कीर्तन प्रिय था। रात-दिन वे केवल ‘हरि-हरि’ करते रहते थे। भगवान का नाम तो इनकी जीभ पर सदा ही नाचता रहता था। बहुत काल तक नाम-कीर्तन, गुणगान तथा भगवान के ध्‍यान में तल्‍लीन रहते हुए उन्‍होंने जगन्नाथ पुरी में निवास किया।

सदन भगवान श्री जगन्नाथ जी के परम भक्त थे। इनको बचपन से ही भगवन्नाम-जप और हरि कीर्तन प्रिय था। भगवान का नाम तो इनकी जीभ पर सदा ही नाचता रहता था। ये जाति से कसाई थे, फिर भी इनका हृदय दया से पूर्ण था। जीव-वध के नाम से ही इनका शरीर काँपने लगता था। आजीविका के लिये और कोई उपाय न होने से दूसरों के यहाँ से मांस लाकर बेचा करते थे, स्‍वयं अपने हाथ से पशु-वध नहीं करते थे।

जाति पाँति पूछै नहिं कोई। हरि को भजै सो हरि का होई।।

परिचय

प्राचीन समय में सदन नामक कसाई जाति के एक भक्त हुए थे। बचपन से भगवन्नाम-जप और हरि कीर्तन इन्‍हें प्रिय था। भगवान का नाम तो इनकी जीभ पर सदा ही नाचता रहता था। यद्यपि ये जाति से कसाई थे, फिर भी इनका हृदय दया से पूर्ण था। जीव-वध के नाम से ही इनका शरीर काँपने लगता था। आजीविका के लिये और कोई उपाय न होने से दूसरों के यहाँ से मांस लाकर बेचा करते थे, स्‍वयं अपने हाथ से पशु-वध नहीं करते थे। इस काम में भी इनका मन लगता नहीं था, पर मन मारकर जाति-व्‍यवसाय होने से करते थे। सदा नाम-जप, भगवान के गुण-गान और लीलामय पुरुषोत्तम के चिन्‍तन में लगे रहते थे। सदन का मन श्री हरि के चरणों में रम गया था। रात-दिन वे केवल ‘हरि-हरि’ करते रहते थे।

भगवान अपने भक्त से दूर नहीं रहा करते। भक्त को जैसे उनके बिना चैन नहीं, वैसे ही उन्‍हें भी भक्त के बिना चैन नहीं। सदन के घर में भगवान शालग्राम रूप में विराजमान थे। सदन को इसका पता नहीं था। वे तो शालग्राम को पत्‍थर का एक बाट समझते थे और उनसे मांस तौला करते थे।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 पुस्तक- भक्त चरितांक | प्रकाशक- गीता प्रेस, गोरखपुर | विक्रमी संवत- 2071 (वर्ष-2014) | पृष्ठ संख्या- 684

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सदन_कसाई&oldid=544735" से लिया गया