Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
शंखचूड़ (दंभा पुत्र) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

शंखचूड़ (दंभा पुत्र)  

शंखचूड़ महर्षि कश्यप के पुत्र विप्रचित्ति का पौत्र तथा दंभा का पुत्र था। दंभा ने तपस्या से विष्णु को प्रसन्न करके एक वीर पुत्र प्राप्त करने का वर मांगा था। उसकी पत्नी के गर्भ से जिस बालक का जन्म हुआ, वह पूर्वजन्म में सुदामा नामक कृष्ण भक्त था। नवजात बालक का नाम शखचूड़ रखा गया। शंखचूड़ ने इन्द्रलोक को भी जीत लिया था, किंतु भगवान शिव का कहा न मानने पर उसका वध शिव ने अपने त्रिशूल से कर दिया।

ब्रह्म का वरदान

ब्रह्मा ने उसकी आराधना से प्रसन्न होकर उसे त्रिलोक विजयी होने का वर प्रदान किया तथा कृष्ण कवच देकर उसे प्रेरित किया कि वह बदरिकाश्रम में तप करने वाली तुलसी से विवाह करे। उसके विवाह के उपरान्त दंभासुर ने उसका राज्यतिलक कर दिया। असुरों ने इन्द्रलोक पर आक्रमण किया। अंत में दैत्यों की विजय हुई। शंखचूड़ भूमंडल का अधिपति बना तथा इन्द्र कहलाया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भारतीय मिथक कोश |लेखक: डॉ. उषा पुरी विद्यावाचस्पति |प्रकाशक: नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 301 |

  1. शिवपुराण, 5|25-38

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शंखचूड़_(दंभा_पुत्र)&oldid=228961" से लिया गया