धरनीदास  

धरनीदास भारत के प्रसिद्ध संत कवियों में से एक थे। ये संत परंपरा में ‘धरनी’ के नाम से विख्यात थे। धरनीदास ने स्वामी रामानंद की शिष्य-परंपरा के स्वामी विनोदानंद से दीक्षा ली थी। इनके द्वारा लिखी गईं भक्ति काल की कई रचनाएँ प्रसिद्ध हैं। आत्महीनता, नाम स्मरण तथा आध्यात्मिक विषयों का समावेश इनकी रचनाओं में हुआ है। बिहार और उत्तर प्रदेश में धरनीदास के काफ़ी संख्या में अनुयायी हैं।

जन्म

धरनीदास का जन्म बिहार के छपरा ज़िले के माझी गांव में एक कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके जन्म के समय के संबंध में विद्वानों में बड़ा मतभेद है। फिर भी उनकी बानी-साक्ष्य के आधार पर 1616 ई. उनका जन्म-समय माना गया है। धरनीदास का परिवार कृषक था। उन्होंने गांव के ज़मींदार के यहाँ दीवान के रूप में काम किया।

चमत्कारिक प्रसंग

धरनीदास सत्यनिष्ठ तो थे ही, वैराग्य की भावना उनके अंदर बराबर रही। धरनीदास के संबंध में अनेक चमत्कारिक घटनाएँ प्रचलित हैं। एक बार बहीखाते पर पानी का भरा लोटा लुढ़क गया, जिससे खाते की लिखावट मिट गई। ज़मींदार को उनकी ईमानदारी पर संदेह हुआ। जब उनसे इस लापरवाही के संबंध में पूछा गया तो बोले- "मैं तो पुरी के जगन्नाथ जी के वस्त्रों में लगी आग बुझा रहा था।" जब ज़मींदार ने पुरी के मंदिर से इस संबंध में पता लगाया तो ज्ञात हुआ कि वहाँ आग लगी थी और एक साधु ने लोटे से जल डालकर उसे बुझाया। इससे ज़मींदार बड़ा लज्जित हुआ, धरनीदास से क्षमा मांगी, पर उन्होंने फिर उसके यहाँ नौकरी नहीं की।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=धरनीदास&oldid=599816" से लिया गया