त्रिलोचन शास्त्री  

त्रिलोचन शास्त्री
त्रिलोचन शास्त्री
पूरा नाम त्रिलोचन शास्त्री
अन्य नाम वासुदेव सिंह (मूल नाम)
जन्म 20 अगस्त, 1917
जन्म भूमि सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 9 दिसम्बर, 2007
मृत्यु स्थान गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश
कर्म भूमि भारत
मुख्य रचनाएँ 'गुलाब और बुलबुल', 'उस जनपद का कवि हूँ', 'ताप के ताये हुए दिन', 'तुम्हें सौंपता हूँ' और 'मेरा घर' आदि।
विद्यालय काशी हिन्दू विश्वविद्यालय
शिक्षा एम.ए. (अंग्रेज़ी) एवं संस्कृत में 'शास्त्री' की डिग्री
पुरस्कार-उपाधि 'साहित्य अकादमी पुरस्कार' (1982), 'शलाका सम्मान' (1989-1990),
प्रसिद्धि कवि तथा लेखक
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी त्रिलोचन शास्त्री हिन्दी के अतिरिक्त अरबी और फ़ारसी भाषाओं के निष्णात ज्ञाता माने जाते थे। पत्रकारिता के क्षेत्र में भी वे ख़ासे सक्रिय रहे।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

त्रिलोचन शास्त्री (अंग्रेज़ी: Trilochan Shastri; जन्म- 20 अगस्त, 1917, सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 9 दिसम्बर, 2007, गाज़ियाबाद) को हिन्दी साहित्य की प्रगतिशील काव्य धारा का प्रमुख हस्ताक्षर माना जाता है। वे आधुनिक हिन्दी कविता की प्रगतिशील 'त्रयी' के तीन स्तंभों में से एक थे। इस 'त्रयी' के अन्य दो स्तम्भ नागार्जुनशमशेर बहादुर सिंह थे। त्रिलोचन शास्त्री काशी (आधुनिक वाराणसी) की साहित्यिक परम्परा के मुरीद कवि थे।

जन्म तथा शिक्षा

त्रिलोचन शास्त्री का जन्म 20 अगस्त, 1917 को उत्तर प्रदेश में सुल्तानपुर ज़िले के कठघरा चिरानी पट्टी नामक स्थान पर हुआ था। इनका मूल नाम वासुदेव सिंह था। त्रिलोचन शास्त्री ने 'काशी हिन्दू विश्वविद्यालय' से एम.ए. अंग्रेज़ी की एवं लाहौर से संस्कृत में 'शास्त्री' की डिग्री प्राप्त की थी।

बाज़ारवाद के विरोधी

उत्तर प्रदेश के छोटे से गांव से 'बनारस विश्वविद्यालय' तक अपने सफर में त्रिलोचन शास्त्री ने दर्जनों पुस्तकें लिखीं और हिन्दी साहित्य को समृद्ध किया। शास्त्री जी बाज़ारवाद के प्रबल विरोधी थे। हालांकि उन्होंने हिन्दी में प्रयोगधर्मिता का समर्थन किया। उनका मानना था कि- "भाषा में जितने प्रयोग होंगे, वह उतनी ही समृद्ध होगी।" त्रिलोचन शास्त्री ने हमेशा ही नवसृजन को बढ़ावा दिया। वह नए लेखकों के लिए उत्प्रेरक थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=त्रिलोचन_शास्त्री&oldid=606579" से लिया गया