नरपति नाल्ह  

नरपति नाल्ह राजस्थान के प्रसिद्ध कवियों में से एक थे। वे पुरानी पश्चिमी राजस्थानी भाषा की सुप्रसिद्ध रचना 'बीसलदेव रासो' के रचयिता कवि थे।

  • अपनी रचना 'बीसलदेव रासो' में नरपति नाल्ह ने स्वयं को कहीं पर 'नरपति' लिखा है तो कहीं 'नाल्ह'।
  • ऐसा सम्भव हो सकता है कि 'नरपति' उनकी उपाधि रही हो और 'नाल्ह' उनका नाम हो।
  • नरपति नाल्ह के जीवन से जुड़ी अधिकांश बातें, जैसे- कि उनका समय कब का है और वे कहाँ के निवासी थे, आदि अज्ञात हैं।
  • 'बीसलदेव रासो' की रचना चौदहवीं शती विक्रमी की मानी जाती है। इसलिए नरपति नाल्ह का समय भी इसी के आस-पास का माना जा सकता है।
  • नरपति नाल्ह को डिंगल का प्रसिद्ध कवि माना जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नरपति_नाल्ह&oldid=489763" से लिया गया