नामवर सिंह  

नामवर सिंह
नामवर सिंह
पूरा नाम डॉ. नामवर सिंह
जन्म 1 मई, 1927
जन्म भूमि वाराणसी, उत्तर प्रदेश
मृत्यु निधन: 19 फरवरी 2019
मृत्यु स्थान नयी दिल्ली
मुख्य रचनाएँ आधुनिक साहित्य की प्रवृत्तियाँ, छायावाद, इतिहास और आलोचना, कविता के नए प्रतिमान आदि
भाषा हिन्दी
शिक्षा एम.ए., पी.एच.डी. (हिन्दी)
पुरस्कार-उपाधि साहित्य अकादमी पुरस्कार (1971), शलाका सम्मान” (1991) एवं “साहित्य भूषण सम्मान" (1993)
नागरिकता भारतीय
अद्यतन‎
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

नामवर सिंह (अंग्रेज़ी: Namvar Singh, जन्म: 1 मई, 1927, निधन: 19 फरवरी, 2019, नयी दिल्ली) हिन्दी के प्रसिद्ध कवि और प्रमुख समकालीन आलोचक हैं।

जीवन परिचय

नामवर सिंह का जन्म 1 मई, 1927 को वाराणसी ज़िले के जीयनपुर नामक गाँव में हुआ। काशी हिंदू विश्वविद्यालय से उन्होंने हिन्दी में एम.ए. और पी.एच डी. की उपाधि ली। 82 वर्ष की उम्र पूर्ण कर चुके नामवर जी विगत 65 से भी अधिक वर्षो से साहित्य के क्षेत्र में हैं। पिछले 30-35 वर्षों से वे भारत के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर व्याख्यान भी दे रहे हैं। जब वे गांव में थे तो ब्रजभाषा में प्रायः श्रृंगारिक कविताएं लिखा करते थे। अब उन्होंने खड़ी बोली हिंदी में लिखना शुरू किया।

बनारस निवासी

नामवर सिंह बनारस के ईश्वर गंगी मुहल्ले में रहते थे। 1940 ई. में उन्होंने 'नवयुवक साहित्यिक संघ', नामक एवं साहित्यिक संस्था अपने सहयोगी पारसनाथ मिश्र सेवक के साथ निर्मित की थी, जिसमें हर सप्ताह एक साहित्यिक गोष्ठी होती थी। 1944 ई. से नामवर भी इसकी गंगी मुहल्ले में शामिल होते थे। ठाकुर प्रसाद सिंह ने ईश्वर गंगी मुहल्ले में 'भारतेन्दु विद्यालय' एवं 'ईश्वर गंगी पुस्तकालय' की स्थापना की थी। 1947 ई.में उनकी नियुक्ति बलदेव इंटर कॉलेज, बडा़गांव में हो गई। नवयुवक साहित्य संघ की ज़िम्मेदारी उन्होंने नामवर और सेवक जी को दे दी। इसकी गोष्ठियां टाकुर प्रसाद सिंह के बगैर भी बरसों चलती रही। बाद में इसका नाम सिर्फ 'साहित्यिक संघ' हो गया। इसकी गोष्टियों में बनारस के तत्कालीन प्रायः सभी साहित्यकार उपस्थित होते थे। नामवर के साथ त्रिलोचन एवं साही की इसमें नियमित उपस्थिति होती थी। नामवर की काव्य-प्रतिभा के निर्माण में इस संस्था का भी अप्रतिम योगदान है।

पहली कविता

नामवर सिंह के स्कूल के छात्र –संघ से एक मासिक पत्रिका निकलती थी- 'क्षत्रिय मित्र'। सरस्वती प्रसाद सिंह उसके संपादक थे। आगे चलकर शम्भूनाथ सिंह उसके संपादक हुए। कुछ समय तक त्रिलोचन ने भी उसका संपादन किया था। कवि नामवर की कवितांए उसमें छपने लगी। पहली कविता 'दीवाली' शीर्षक से छपी। दूसरी कविता थी-'सुमन रो मत, छेड़ गाना': त्रिलोचन ने पढ़ने की ओर, ख़ासकर आधुनिक साहित्य, उन्हें प्रेरित किया। उनकी ही प्रेरणा से उन्होंने पहली बार दो पुस्तकें ख़रीदी। पहली निराला की 'अनामिका',एवं दूसरी इलाचन्द्र जोशी द्रारा अनूदित गोर्की की 'आवारा की डायरी'। बनारस में सरसौली भवन में सागर सिंह नामक एक साहित्यिक व्यक्ति रहते थे। उनके घर पर 'प्रगतिशील लेखक संघ' की एक गोष्ठी हुई थी, जिसमें त्रिलोचन कवि नामवर को भी ले गए थे यहीं पहली बार शिवदान सिंह चौहान और शमशेर बहादुर सिंह से परिचय हआ। यह बनारस की पहली गोष्ठी थी जिसमें उन्होंने कविता-पाठ किया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बनारस में मिले साहित्य के संस्कार (हिन्दी) हिन्दुस्तान लाइव। अभिगमन तिथि: 31 जनवरी, 2015।

संबंधित लेख


और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नामवर_सिंह&oldid=636157" से लिया गया