कुवरि  

कुवरि राजा शिवप्रसाद सितारे हिन्द की परम्परा में आने वाले कवि थे। इनका ग्रन्थ 'प्रेमरत्न' है, जिसकी रचना संवत 1844 में मानी जाती है। इस ग्रन्थ में 128 चौपाईयाँ, 142 दोहे और 16 सोरठा का अद्भुत मिश्रण है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. काशी कथा, साहित्यकार (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 10 जनवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कुवरि&oldid=435535" से लिया गया