थान कवि  

  • थान कवि चंदन बंदीजन के भानजे थे और डौंड़ियाखेरे, ज़िला रायबरेली में रहते थे।
  • इनका पूरा नाम 'थानराय' था।
  • इनके पिता निहालराय, पितामह महासिंह और प्रपितामह लालराय थे।
  • इन्होंने संवत 1848 में 'दलेल प्रकाश' नामक एक रीति ग्रंथ चँड़रा (बैसवारा) के रईस दलेल सिंह के नाम पर बनाया। इस ग्रंथ में विषयों का कोई क्रम नहीं है। इसमें गणविचार, रस, भाव भेद, गुण दोष आदि का कुछ निरूपण है और कहीं कहीं अलंकारों के कुछ लक्षण आदि भी दे दिए गए हैं। कहीं राग रागिनियों के नामों के लक्षण कह दिए।
  • पुराने टीकाकारोंकी सी गति है।
  • अंत में चित्रकाव्य भी रखे हैं।
  • इन्होंने कोई सर्वांगपूर्ण ग्रंथ बनाने के उद्देश्य से इसे नहीं लिखा है। अनेक विषयों में अपनी निपुणता का प्रमाण सा इन्होंने उपस्थित किया है।
  • उन्होंने जो विषय लिया है उस पर उत्तम कोटि की रचना की है।
  • भाषा में मंजुलता और लालित्य है।
  • वर्णों की मधुर योजना सुंदर है।


दासन पै दाहिनी परम हंसवाहिनी हौ,
पोथी कर, वीना सुरमंडल मढ़त है।
आसन कँवल, अंग अंबर धवल,
मुख चंद सो अंवल, रंग नवल चढ़त है
ऐसी मातु भारती की आरति करत थान,
जाको जस बिधि ऐसो पंडित पढ़त है।
ताकी दयादीठि लाख पाथर निराखर के,
मुख ते मधुर मंजु आखर कढ़त है


कलुषहरनि सुखकरनि सरनजन
बरनि बरनि जस कहत धारनिधार।
कलिमलकलित बलित अघ खलगन,
लहत परमपद कुटिल कपटतर
मदनकदन सुरसदन बदन ससि,
अमल नवल दुति भजन भगतवर।
सुरसरि! तव जल दरस परस करि,
सुरसरि! सुभगति लहत अधम नर


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

सम्बंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=थान_कवि&oldid=226710" से लिया गया