आंडाल  

आंडाल की प्रतिमा

आंडाल (अंग्रेज़ी: Andal) दक्षिण भारत की प्रसिद्ध सन्त महिला थीं। वे वैष्णव आलवार सन्तों में एकमात्र नारी थीं। उन्हें "दक्षिण की मीरा" कहा जाता है। उनका एक प्रसिद्ध नाम 'कौदे' भी है। तमिल कवयित्री आंडाल की दोनों काव्य रचनाएँ- 'तिरुप्पवै' और 'नाच्चियार तिरुमोळि' आज भी काफ़ी लोकप्रिय हैं।

परिचय

दक्षिण भारत की प्रसिद्ध संत कवयित्री आंडाल का समय नवीं शताब्दी ईसवी माना जाता है। इनका तमिल साहित्य में वही स्थान है, जो हिंदी में मीरां का है। आंडाल का बचपन का नाम 'कौदे' था। इनका पालन-पोषण मदुरा के विष्णुचित्र नामक एक विष्णु भक्त ब्राह्मण के घर में हुआ।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 67 |

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आंडाल&oldid=626818" से लिया गया