भवानी प्रसाद मिश्र  

भवानी प्रसाद मिश्र
भवानी प्रसाद मिश्र
पूरा नाम भवानी प्रसाद मिश्र
जन्म 29 मार्च, 1913 ई.
जन्म भूमि टिगरिया गाँव, होशंगाबाद, मध्य प्रदेश
मृत्यु 20 फ़रवरी, 1985 ई.
कर्म भूमि भारत
मुख्य रचनाएँ 'गीत फ़रोश', 'बुनी हुई रस्सी', 'नीली रेखा तक', 'मानसरोवर', 'अनाम तुम आते हो', 'त्रिकाल संध्या', 'चकित है दु:ख' और 'अन्धेरी कविताएँ', आदि।
भाषा हिन्दी, अंग्रेज़ी, संस्कृत
शिक्षा बी.ए.
पुरस्कार-उपाधि 'साहित्य अकादमी पुरस्कार' और 'पद्मश्री', राज्य स्तरीय शिखर सम्मान
प्रसिद्धि हिन्दी के प्रसिद्ध कवि और गाँधीवादी विचारक
नागरिकता भारतीय
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

भवानी प्रसाद मिश्र (अंग्रेज़ी: Bhawani Prasad Mishra, जन्म: 29 मार्च, 1913; मृत्यु: 20 फ़रवरी, 1985) हिन्दी के प्रसिद्ध कवि तथा गांधीवादी विचारक थे। भवानी प्रसाद मिश्र दूसरे तार-सप्तक के एक प्रमुख कवि हैं। मिश्र जी विचारों, संस्कारों और अपने कार्यों से पूर्णत: गांधीवादी हैं। गाँधीवाद की स्वच्छता, पावनता और नैतिकता का प्रभाव और उसकी झलक भवानी प्रसाद मिश्र की कविताओं में साफ़ देखी जा सकती है। उनका प्रथम संग्रह 'गीत-फ़रोश' अपनी नई शैली, नई उद्भावनाओं और नये पाठ-प्रवाह के कारण अत्यंत लोकप्रिय हुआ।

जीवन परिचय

भवानी प्रसाद मिश्र का जन्म टिगरिया गांव में, होशंगाबाद (मध्य प्रदेश) में हुआ था। भवानी प्रसाद मिश्र की प्रारंभिक शिक्षा क्रमश: सोहागपुर, होशंगाबाद, नरसिंहपुर और जबलपुर में हुई| उन्होंने हिन्दी, अंग्रेज़ी और संस्कृत विषय लेकर बी. ए. पास किया। भवानी प्रसाद मिश्र ने महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित होकर शिक्षा देने के विचार से एक स्कूल खोल लिया और उस स्कूल को चलाते हुए ही 1942 में गिरफ्तार होकर 1949 में छूटे। उसी वर्ष महिलाश्रम वर्धा में शिक्षक की तरह चले गए और चार पाँच साल वर्धा में बिताए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भवानी प्रसाद मिश्र (हिन्दी) अनुभूति। अभिगमन तिथि: 28 मई, 2012।
  2. 2.0 2.1 2.2 देसाई, नारायण। गांधी गीतों के गायक भवानीप्रसाद मिश्र (हिन्दी) देशबंधु। अभिगमन तिथि: 22 फ़रवरी, 2013।

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भवानी_प्रसाद_मिश्र&oldid=621404" से लिया गया