सत्यवान मुनि  

  • सत्यवान प्राचीनकाल के एक शांत प्रकृति के मुनि थे।
  • एक दिन सत्यवान अपनी तपस्या में रत थे। उनकी तपस्या भंग करने के निमित्त से इंद्र एक सैनिक के रूप में उनके आश्रम में गये।
  • इंद्र ने मुनि को धरोहरस्वरूप एक खड्ग अर्पित की।
  • सत्यवान मुनि का ध्यान निरन्तर खड्ग की चिन्ता में रत रहने लगा। उनका तप धीरे-धीरे क्षीण होने लगा और क्रोध वृद्धि जागने लगी। धीरे-धीरे वह एक क्रोधी क्रूर व्यक्ति के रूप में नरक के अधिकारी बने।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भारतीय मिथक कोश |लेखक: डॉ. उषा पुरी विद्यावाचस्पति |प्रकाशक: नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 332 |



वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सत्यवान_मुनि&oldid=232498" से लिया गया