बर्बरीक  

Disamb2.jpg बर्बरीक एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- बर्बरीक (बहुविकल्पी)

बर्बरीक महान् पाण्डव भीम के पुत्र घटोत्कच और नाग कन्या अहिलवती के पुत्र थे। कहीं-कहीं पर मुर दैत्य की पुत्री 'कामकंटकटा' के उदर से भी इनके जन्म होने की बात कही गई है। इनके जन्म से ही बर्बराकार घुंघराले केश थे, अत: इनका नाम बर्बरीक रखा गया। वह दुर्गा का उपासक था। कृष्ण की सलाह पर इसने गुप्त क्षेत्र तीर्थस्थल में दुर्गा की आराधना की। उसने आराधना में विघ्न डालने वाले पलासी आदि दैत्यों का संहार किया। एक बार वह अपने पितामह भीम से भी भिड़ गया था।[1]

विद्या प्राप्ति

बाल्यकाल से ही बर्बरीक बहुत वीर और महान् यौद्धा थे। उन्होंने युद्ध कला अपनी माँ से सीखी थी। भगवान शिव की घोर तपस्या करके उन्हें प्रसन्न किया और तीन अभेद्य बाण प्राप्त किये और तीन 'बाणधारी' का प्रसिद्ध नाम प्राप्त किया। अग्नि देव ने प्रसन्न होकर उन्हें धनुष प्रदान किया, जो कि उन्हें तीनो लोकों में विजयी बनाने में समर्थ था।

युद्ध का समय

महाभारत का युद्ध कौरवों और पाण्डवों के मध्य अपरिहार्य हो गया था, यह समाचार बर्बरीक को प्राप्त हुये तो उनकी भी युद्ध में सम्मिलित होने की इच्छा जाग्रत हुई। जब वे अपनी माँ से आशीर्वाद प्राप्त करने पहुँचे, तब माँ को हारे हुये पक्ष का साथ देने का वचन दिया। वे अपने नीले घोडे, जिसका रंग नीला था, पर तीन बाण और धनुष के साथ कुरुक्षेत्र की रणभूमि की ओर अग्रसर हुये।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 525 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बर्बरीक&oldid=604294" से लिया गया