Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
हरि (तारकाक्ष पुत्र) - Bharatkosh

हरि (तारकाक्ष पुत्र)  

Disamb2.jpg हरि एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- हरि (बहुविकल्पी)

हरि का उल्लेख पौराणिक ग्रंथ महाभारत में हुआ है। महाभारत कर्ण पर्व के अनुसार एक असुर का नाम, जो तारकाक्ष का महाबली पुत्र था। इसने अपनी तपस्या से ब्रह्माजी को प्रसन्न कर उनके वरदान से अपने तीनों पुरों में मृतसंजीवनी बावली का निर्माण किया था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हरि_(तारकाक्ष_पुत्र)&oldid=548482" से लिया गया