अनंगवती  

अनंगवती एक वेश्या का नाम था, जिसने 'विभूति द्वादशी' व्रत करके अपने दूसरे जन्म में कामदेव की पत्नी का स्थान प्राप्त किया था।[1] इसका नाम 'प्रीति' पड़ा और यह रति की सौत बनी।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 19 |
  2. मत्स्यपुराण 100.18.32

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अनंगवती&oldid=304167" से लिया गया