हारीतक  

  1. हारीतक सूर्यवंशी इक्ष्वाकुवंशोत्पन्न राजा युवनाश्व का पुत्र था।[1]
  2. हारीतक जाबाल ऋषि का पुत्र था जिसका निवास कलाप ग्राम में था जहाँ से स्कंद पुराणानुसार नारद जी अन्य ब्राह्मणों के साथ इसे भी महीसागर संगमतीर्थ (स्तम्भतीर्थ) ले आये थे।[2]
  3. हारीतक एक प्राचीन ऋषि का नाम था जो युधिष्ठिर का विशेष सम्मान करते थे। ये शरशय्या पर पड़े भीष्म पितामह को देखने गये थे।[3]

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हारीतक&oldid=515921" से लिया गया