उत्तरा  

Seealso.gifउत्तरा का उल्लेख इन लेखों में भी है: विराट, परीक्षित, अभिमन्यु, अर्जुन एवं अश्वत्थामा
संक्षिप्त परिचय
उत्तरा
उत्तरा तथा अभिमन्यु
पिता विराट
माता सुदेष्णा
समय-काल महाभारत काल
परिजन विराट, सुदेष्णा और उत्तर
विवाह अभिमन्यु
संतान परीक्षित
विद्या पारंगत नृत्य तथा संगीत
महाजनपद विराट नगर
अन्य जानकारी द्रोण पुत्र अश्वत्थामा के ब्रह्मास्त्र प्रहार से उत्तरा ने मृत शिशु को जन्म दिया था, किंतु भगवान श्रीकृष्ण ने उस बालक को पुर्नजीवन दिया। यही बालक आगे चलकर राजा परीक्षित नाम से प्रसिद्ध हुआ।

उत्तरा विराट नगर, जो कि महाभारत काल का एक प्रसिद्ध जनपद था, के राजा विराट और उनकी रानी सुदेष्णा की कन्या थी। उसका विवाह पाण्डव अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु से हुआ था। जब पाण्डव अज्ञातवास कर रहे थे, उस समय अर्जुन बृहन्नला नाम ग्रहण करके विराट के महल में रह रहे थे। बृहन्नला ने उत्तरा को नृत्य, संगीत आदि की शिक्षा दी थी। जब कौरवों ने राजा विराट की समस्त गायें हस्तगत कर लीं, उस समय अर्जुन ने कौरवों से युद्ध करके अर्पूव पराक्रम दिखाया था। अर्जुन की उस वीरता से प्रभावित होकर राजा विराट ने अपनी कन्या उत्तरा का विवाह अर्जुन से करने का प्रस्ताव रखा, किन्तु अर्जुन ने यह कहकर कि उत्तरा उनकी शिष्या होने के कारण उनकी पुत्री के समान है, उन्होंने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया। किंतु अर्जुन ने अपने पुत्र अभिमन्यु से उत्तरा विवाह स्वीकार कर लिया।

परिचय

उत्तरा मत्स्य-महीप विराट और रानी सुदेष्णा की पुत्री थी। इसके भाई का नाम उत्तर था। कौरवों द्वारा द्यूत क्रीड़ा में हरा दिये जाने के बाद पाण्डवों ने बारह वर्ष का अज्ञातवास स्वीकार किया। इसी दौरान अर्जुन ने बृहन्नला नाम रखकर स्वयं को नृत्य, गीत और संगीत आदि का कुशल हिजड़ा बतलाया। वह राजा विराट के रनिवास में राजकुमारी उत्तरा को नाचना-गाना आदि सिखाने के लिए रख लिये गये। रनिवास में भर्ती करने से पहले विराट की आज्ञा पाकर स्त्रियों ने हर तरह से परीक्षा करके उन्हें हिजड़ा ही पाया। वहाँ अर्जुन राजकुमारी उत्तरा को नाचने-गाने की शिक्षा बड़े अच्छे ढंग से देने लगे। उनके व्यवहार से राजकुमारी उन पर संतुष्ट रहती थी।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उत्तरा&oldid=612897" से लिया गया