अग्निवेष्य  

अग्निवेष्य अथवा 'अग्निवेश्य' देवदत्त के पुत्र थे। ये एक प्रचीन ऋषि थे, जो अग्नि के अवतार कहे गये हैं।[1]

  • ये आयुर्वेद के ज्ञाता थे और इसके आचार्य माने जाते है।
  • अग्निवेष्य को 'कानीन' या 'जातुकर्ण्य' भी कहते हैं।
  • यह अग्निवेश्यायन के ब्राह्मण कुल के प्रवर्तक कहे गये है।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी-221001 |पृष्ठ संख्या: 11 |
  2. भागवतपुराण 9.2.21-22, ब्रह्मांडपुराण 3.47.49

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अग्निवेष्य&oldid=303497" से लिया गया