आम्रपाली  

आम्रपाली
बुद्ध तथा आम्रपाली
पूरा नाम आम्रपाली
जन्म लगभग 25 सौ वर्ष पूर्व
जन्म भूमि वैशाली
उपाधि आम्रपाली को सर्वश्रेष्ठ सुंदरी घोषित कर 'नगरवधु' या 'जनपद कल्याणी' की उपाधि दी गई थी।
प्रसिद्धि सर्वश्रेष्ठ सुन्दरी तथा राजनर्तकी
विशेष आम्रपाली ने बुद्ध को आमंत्रण देकर उन्हें स्नेहपूर्वक भोजन कराया था और अपना महल तथा आमों का बाग़ बौद्ध संघ के लिए दान कर दिया था।
अन्य जानकारी आम्रपाली को देखकर बुद्ध को अपने शिष्यों से कहना पड़ा था कि- "तुम लोग अपनी आँखें बंद कर लो...।" क्योंकि भगवान बुद्ध जानते थे कि आम्रपाली के सौंदर्य को देखकर उनके शिष्यों के लिए संतुलन रखना कठिन हो जाएगा।

आम्रपाली राजा चेतक के समय में वैशाली की सुन्दरतम तथा ख्यातिप्राप्त राजनर्तकी थी। गौतम बुद्ध के वैशाली पधारने पर आम्रपाली ने उन्हें अपने यहाँ भोजन करने के लिए आमत्रित किया था और भगवान बुद्ध के पहुँचने पर उन्हें भोजन कराया था। उसने अपने महल और आम्रकानन[1] को संघ के लिए दान में दिया तथा वहाँ 'विहार' का निर्माण करने का आग्रह किया। आम्रपाली देशभक्ति की परीक्षा में भी खरी उतरी थी। अजातशत्रु से प्रेम होने के बावजूद देशप्रेम की ख़ातिर अजातशत्रु के अनुग्रह को अस्वीकार कर उसने अपने प्रेम की आहूति देना स्वीकार किया, परन्तु अपने देश और राजा से विश्वासघात करने से इनकार कर दिया।

जन्म

इतिहासकारों के अनुसार अपने सौंदर्य की ताकत से कई साम्राज्य को मिटा देने वाली आम्रपाली का जन्म लगभग 25 सौ वर्ष पूर्व प्राचीन भारत के वैभवशाली नगर वैशाली में हुआ था। ऐतिहासिक कथाओं के अनुसार आम्रपाली वैशाली गणतंत्र के 'महनामन' नामक एक सामंत को आम के वृक्ष के नीचे मिली थी, जिसकी वजह से उसका नाम 'आम्रपाली' रखा गया था। आम्रपाली के जैविक माता-पिता की जानकारी प्राप्त नहीं है। वह सामंत राजसेवा से त्याग पत्र देकर आम्रपाली को पुरातात्विक वैशाली के निकट आज के अंबारा ग्राम चला आया था। जब आम्रपाली की उम्र करीब 11 वर्ष हुई तो सामंत उसे लेकर फिर वैशाली लौट आया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. आम का बाग़
  2. 2.0 2.1 बौद्ध भिक्षुणी आम्रपाली (हिन्दी) वेबदुनिया.कॉम। अभिगमन तिथि: 08 दिसम्बर, 2014।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आम्रपाली&oldid=598651" से लिया गया