अभिमन्यु  

उत्तरा और अभिमन्यु
Uttara And Abhimanu

अभिमन्यु महाभारत के महत्त्वपूर्ण पात्र थे जो पाँच पांडवों में से अर्जुन के पुत्र थे। उनका छल द्वारा कारुणिक अंत बताया गया है। अभिमन्यु महाभारत के नायक अर्जुन और सुभद्रा, जो बलरामकृष्ण की बहन थीं, के पुत्र थे। इन्हें चंद्र देवता के पुत्र 'वर्चा' का अवतार भी माना जाता है। धारणा है कि समस्त देवताओं ने अपने पुत्रों को अवतार रूप में धरती पर भेजा था, परंतु चंद्र देव ने कहा कि- "वे अपने पुत्र का वियोग सहन नहीं कर सकते, अतः उनके पुत्र को मानव योनि में मात्र सोलह वर्ष की आयु दी जाए।" इसीलिए अभिमन्यु महाभारत युद्ध में अल्प आयु में ही वीरगति को प्राप्त हुए।

अभिमन्यु का अर्थ

अभी (=निर्भय) और मन्यु (=क्रोधी) होने से इस बालक का नाम अभिमन्यु रखा गया था। इसे श्रीकृष्ण, पाण्डव लोग और नगर निवासी भी बहुत चाहते थे। इसके जातकर्म आदि संस्कार श्रीकृष्ण ने किये थे। इनके चार भागों और दस लक्षणों से संयुक्त दिव्य तथा मानुष धनुर्वेद अपने पिता अर्जुन से सीखा था। यह ऊँचा, भरे कन्धों वाला, रोबीला और श्रीकृष्ण के समान शूर-वीर था। इसमें युधिष्ठिर की तरह धैर्य, श्रीकृष्ण की तरह स्वभाव, भीमसेन की तरह पराक्रमी, अर्जुन की तरह रूप और विक्रम, नकुल की तरह नम्रता और सहदेव की तरह शास्त्र ज्ञान था।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अभिमन्यु&oldid=611840" से लिया गया