वैराज  

वैराज पौराणिक महाकाव्य महाभारत तथा हिन्दू मान्यताओं के अनुसार सात पितृगणों में से एक का नाम है। शेष छ: के नाम इस प्रकार हैं-

  1. अग्निष्वास
  2. सोमय
  3. गार्हपत्य
  4. एकश्रृंग
  5. चतुर्वेद
  6. कुल


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 480 |

  1. महाभा. सभा. 11.46

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वैराज&oldid=546785" से लिया गया