अर्वावसु  

अर्वावसु हिन्दू मान्यताओं और पौराणिक महाकाव्य महाभारत के उल्लेखानुसार रैभ्य ऋषि के दूसरे पुत्र का नाम था। भरद्वाज के शापवश इनके बड़े भाई परावसु ने पिता रैभ्य का जंगली मृग समझ वध कर दिया था, किंतु अर्वावसु ने अपने तपोबल से उन्हें पुन: जीवित कर लिया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अर्वावसु&oldid=548411" से लिया गया