केदार शर्मा  

केदार शर्मा
केदार शर्मा
पूरा नाम केदार शर्मा
जन्म 12 अप्रैल, 1910
जन्म भूमि पंजाब
मृत्यु 29 अप्रैल, 1999
मृत्यु स्थान मुंबई
कर्म भूमि मुम्बई
कर्म-क्षेत्र निर्माता-निर्देशक और अभिनेता
मुख्य फ़िल्में देवदास, औलाद, चित्रलेखा, नीलकमल, जोगन, जलदीप,
शिक्षा स्नातक
विद्यालय ख़ालसा कॉलेज, अमृतसर
पुरस्कार-उपाधि राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार 1956, लाइफ़टाइम अचीवमेंट अवार्ड, महाराष्ट्र सरकार द्वारा राज कपूर पुरस्कार 1999
प्रसिद्धि फ़िल्म निर्माता
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी केदार ने बच्चों के लिए भी कई फ़िल्में बनाईं, जिनमें जलदीप, गंगा की लहरें, गुलाब का फूल, 26 जनवरी, एकता, चेतक, मीरा का चित्र, महातीर्थ और खुदा हाफ़िज़ शामिल हैं।

केदार शर्मा (अंग्रेज़ी: Kedar Sharma, जन्म: 12 अप्रैल, 1910, पंजाब; मृत्यु: 29 अप्रैल, 1999, मुंबई) भारतीय फ़िल्म निर्देशक, निर्माता, पटकथा लेखक और हिंदी फ़िल्मों के गीतकार थे। उन्हें बॉलीवुड में ऐसे फ़िल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने राज कपूर, भारत भूषण, मधुबाला, माला सिन्हा और तनुजा को फ़िल्म इंडस्ट्री में स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। केदार शर्मा ने कई फ़िल्मों में अपने अभिनय से भी दर्शकों का दिल जीता। इन फ़िल्मों में इंकलाब, पुजारिन, विद्यापति, बड़ी दीदी, नेकी और बदी शामिल हैं।[1]

परिचय

केदार शर्मा का जन्म 12 अप्रैल, 1910 को पंजाब के नरौल शहर (अब पाकिस्तान) में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अमृतसर से पूरी की। इसके बाद वह नौकरी की तलाश में मुंबई आ गए, लेकिन वहां काम नहीं मिलने के कारण वह अमृतसर लौट गए। इस बीच उन्होंने अमृतसर के ख़ालसा कॉलेज से स्नाकोत्तर की पढ़ाई पूरी की।

फ़िल्मी कॅरियर की शुरुआत

वर्ष 1933 में केदार शर्मा को देवकी बोस निर्देशित फ़िल्म 'पुराण भगत' देखने का अवसर मिला। इस फ़िल्म से वह इस कदर प्रभावित हुए कि उन्होंने निश्चय किया कि वह फ़िल्मों में ही अपना करियर बनाएंगे। अपने इसी सपने को पूरा करने के लिए केदार कलकत्ता चले गए। कलकत्ता में केदार की मुलाकात फ़िल्मकार देवकी बोस से हुई और उनकी सिफ़ारिश से उन्हें न्यू थियेटर में बतौर छायाकार शामिल कर लिया गया। वर्ष 1934 में प्रदर्शित फ़िल्म 'सीता' बतौर छायाकर केदार की पहली फ़िल्म थी। इसके बाद न्यू थियेटर की फ़िल्म 'इंकलाब' में केदार को एक छोटी सी भूमिका निभाने का अवसर मिला। वर्ष 1936 में प्रदर्शित फ़िल्म 'देवदास' केदार शर्मा के सिने कैरियर की अहम फ़िल्म साबित हुई। इस फ़िल्म में वह बतौर कथाकार और गीतकार की भूमिका में थे। फ़िल्म हिट रही और केदार फ़िल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गए।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=केदार_शर्मा&oldid=622252" से लिया गया