श्याम बेनेगल  

श्याम बेनेगल
Shyam Benegal.jpg
पूरा नाम श्याम बेनेगल
जन्म 14 दिसम्बर, 1934
जन्म भूमि हैदराबाद, आंध्र प्रदेश
कर्म भूमि मुम्बई
कर्म-क्षेत्र फ़िल्म निर्देशक, पटकथा लेखक
मुख्य फ़िल्में 'अंकुर', 'मंथन', 'कलयुग', 'जुनून', 'त्रिकाल', 'मंडी', 'सूरज का सातवां घोड़ा', 'सरदारी बेगम', 'समर', 'हरी भरी' और 'जुबैदा' आदि।
पुरस्कार-उपाधि 'पद्मश्री' (1976), 'पद्मभूषण' (1991), 'दादा साहब फाल्के पुरस्कार' (2007), 'राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार' (पाँच बार)
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी श्याम बेनेगल प्रख्यात फ़िल्मकार गुरुदत्त के भतीजे हैं। हिन्दी सिनेमा को नसीरुद्दीन शाह, शबाना आज़मी और स्मिता पाटिल जैसे बेहतरीन कलाकार श्याम बेनेगल ने दिये हैं।
अद्यतन‎

श्याम बेनेगल (अंग्रेज़ी: Shyam Benegal, जन्म- 14 दिसम्बर, 1934) मुख्यधारा से अलग फ़िल्में बनाने वाले भारत में हिन्दी सिनेमा के एक अग्रणी फ़िल्म निर्देशक हैं। सार्थक सिनेमा के प्रति प्रतिबद्ध फ़िल्मकार श्याम बेनेगल अपनी श्रेणी के किसी भी फ़िल्मकार की तुलना में अधिक सक्रिय रहे हैं।

कैरियर की शुरूआत

एक व्यावसायिक छायाकार के बेटे और प्रख्यात फ़िल्मकार गुरुदत्त के भतीजे श्याम बेनेगल ने बम्बई (वर्तमान मुम्बई) में एक निर्माता के रूप में अपने व्यावसायिक जीवन की शुरुआत की। अपनी पहली फ़िल्म 'अंकुर' (1973) बनाने से पहले उन्होंने 900 से भी ज़्यादा विज्ञापन फ़िल्में और 11 कॉरपोरेट फ़िल्में बनाई थीं। ग्रामीण आन्ध्र प्रदेश की पृष्ठभूमि पर बनी यथार्थवादी फ़िल्म 'अंकुर' की व्यावसायिक सफलता से 'भारतीय समान्तर सिनेमा आन्दोलन' के युग का उदय हुआ, जिसकी शुरुआत कुछ वर्ष पहले मृणाल सेन की 'भुवनशोम' ने की थी।

फ़िल्म निर्माण

श्याम बेनेगल की आरम्भिक फ़िल्मों 'अंकुर', 'निशांत' (1975) और 'मंथन' (1975) ने भारतीय सिनेमा को बेहतरीन कलाकार (नसीरुद्दीन शाह, शबाना आज़मी और स्मिता पाटिल) दिए। मनोरंजन और सामाजिक सरोकार के बीच संतुलन बनाए रखने की कोशिश में बेनेगल ने अपनी बाद की फ़िल्मों 'कलयुग' (1980), 'जुनून' (1979), 'त्रिकाल' (1985) और 'मंडी' (1983) से ग्रामीण पृष्ठभूमि को छोड़कर नाटकीय और शहरी विषय-वस्तुओं पर फ़िल्में बनानी शुरू कीं। जवाहरलाल नेहरू और सत्यजित राय पर वृत्तचित्र बनाने के अलावा उन्होंने 1980 के दशक के मध्य में दूरदर्शन के लिए बहुत-से धारावाहिक ('यात्रा', 'कथा सागर' और 'भारत एक खोज') भी बनाए। यह समय उनके लिए फ़िल्म निर्माण से लम्बे अलगाव का था। 'अंतर्नाद' (1992) के साथ फ़िल्मी दुनिया में वापसी के साथ बेनेगल अपनी पुरानी और सक्रिय कार्यशैली में लौटे। उन्होंने चार फ़ीचर फ़िल्में 'सूरज का सातवां घोड़ा' (1993), 'मम्मो' (1995), 'सरदारी बेगम' (1997), 'समर' (1990 के दशक के उत्तरार्ध में) 'हरी भरी' और 'जुबैदा' (दोनों 2001) बनाईं।

'अंकुर'

1974 में उन्होंने 'अंकुर' जैसी युग प्रवर्तक फ़िल्म बनाकर एक प्रकार से सिनेकर्म को नई शक्ल दी। महान् फ़िल्मकार सत्यजित राय से प्रभावित होने के बावजूद श्याम ने अपनी फ़िल्म को महज कलाकृति तक सीमित नहीं रखा, वरन् उसे एक राजनीतिक-सामाजिक वक्तव्य की शक्ल देने की कोशिश की। 'अंकुर' सिनेकर्म की दृष्टि से एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण रचना थी। बर्लिन फ़िल्मोत्सव में पुरस्कृत और ऑस्कर के लिए प्रविष्टि के बतौर चुनी गई इस फ़िल्म के बारे में समीक्षकों ने खुलकर चर्चा की। ख्यात फ़िल्म विश्लेषिका अरुणा वासुदेव के अनुसार, 'फ़िल्म निर्माताओं और दर्शकों में तकनीक और सिनेमाई समझ दोनों ही स्तर पर अनगढ़ता का माहौल था। 'अंकुर' ने इन्हें सुस्पष्ट कर नूतन आकार सौंपा।' प्रयोगधर्मिता की धुरी पर 'अंकुर' सही अर्थ में नई धारा की सूत्रवाहक सिद्ध हुई। इसके साथ ही श्याम बेनेगल के रूप में भारतीय सिनेमा के एक नए अध्याय का भी सूत्रपात हुआ।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 श्याम बेनेगल : एक दुनिया समानांतर... (हिंदी) वेबदुनिया हिंदी। अभिगमन तिथि: 14 दिसम्बर, 2012।
  2. 'आज के सत्‍यजीत रे हैं श्‍याम बेनेगल' (हिंदी) वन इंडिया। अभिगमन तिथि: 14 दिसम्बर, 2012।
  3. श्याम बेनेगल: सिनेमा जगत के दादा (हिंदी) क्षितिज (ब्लॉग)। अभिगमन तिथि: 14 दिसम्बर, 2012।
  4. लोगों को ‘संविधान’ सिखाएंगे श्याम बेनेगल (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 10 फरवरी, 2012।
  5. 5.0 5.1 5.2 श्याम बेनेगल (हिन्दी) वेबदुनिया। अभिगमन तिथि: 15 दिसम्बर, 2012।
  6. The Making of the Mahatma

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=श्याम_बेनेगल&oldid=617397" से लिया गया