अरुण गोविल  

अरुण गोविल
अरुण गोविल
पूरा नाम अरुण गोविल
जन्म 12 जनवरी, 1958
जन्म भूमि मेरठ, उत्तर प्रदेश
अभिभावक पिता- चंद्र प्रकाश गोविल
पति/पत्नी श्रीलेखा गोविल
संतान पुत्र- अमल गोविल, पुत्री- सोनिका गोविल
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र अभिनय
मुख्य फ़िल्में 'सावन को आने दो', 'सांच को आंच नहीं', 'इतनी सी बात', 'हिम्मतवाला', 'दिलवाला', 'हथकड़ी' और 'लव कुश' आदि।
प्रसिद्धि 'रामायण' सीरियल में राम की भूमिका के रूप में।
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख रामायण, दीपिका चिखालिया, सुनील लहरी, दारा सिंह, रामानन्द सागर
अन्य जानकारी राम का किरदार निभाने के बाद अरुण गोविल ने रामानन्द सागर के एक और मशहूर सीरियल ‘विक्रम और बेताल’ में राजा विक्रमादित्य का किरदार निभाया।
अद्यतन‎
अरुण गोविल (अंग्रेज़ी: Arun Govil, जन्म- 12 जनवरी, 1958, मेरठ, उत्तर प्रदेश) भारतीय सिनेमा में हिंदी फ़िल्म और टीवी अभिनेता हैं। अपने समय के ख्यातिप्राप्त धारावाहिक 'रामायण' में श्रीराम की भूमिका निभाने के बाद वे भारत के हर एक घर में अपनी पहचान बना चुके हैं। सीरियल 'रामायण' को रामानन्द सागर ने निर्देशित किया था। जब भी श्रीराम का ज़िक्र होता है तो जो छवि सामने आती है, उसमें अरुण गोविल का ही चेहरा नज़र आ जाता है। मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम के किरदार को अरुण गोविल ने छोटे पर पर कुछ इस तरह निभाया कि घर-घर में लोग उन्हें राम की तरह पूजने लगे। बिज़नेस करने से पहले ही उन्हें अभिनय करने का प्रस्ताव 1977 में ताराचंद बडजात्या की फिल्म 'पहेली' में मिला। इसके बाद अरुण गोविल ने 'सावन को आने दो', 'सांच को आंच नहीं', 'इतनी सी बात', 'हिम्मतवाला', 'दिलवाला', 'हथकड़ी' और 'लव कुश' जैसी कई फिल्मों में काम किया। 'रामायण' सीरियल करने से पहले अरुण गोविल ख़ुद को एक अच्छे अभिनेता के रूप में साबित कर चुके थे। 'रामायण' के बाद लोगों ने उन्हें 'विक्रम और बेताल' धारावाहिक में राजा विक्रमादित्य के रोल में ख़ूब पसंद किया था।

परिचय

अरुण गोविल का जन्म 12 जनवरी, 1958 को उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में हुआ था। उनके पिता का नाम चंद्र प्रकाश गोविल था। भाई का नाम विजय गोविल है, जिन्होंने बाद में अभिनेत्री तबस्सुम से विवाह किया। जब ये पांचवी कक्षा में थे, तभी से नाटकीय कार्यक्रमों में भाग लिया करते थे। रामलीला में राम का किरदार भी निभाते थे। अरुण गोविल के पिता भी हर पिता की भांति यही चाहते थे कि उनका बेटा भी सरकारी नौकरी करे। अरुण गोविल ने श्रीलेखा से विवाह किया, जिनसे उनके एक बेटा- अमल गोविल और एक बेटी- सोनिका गोविल है। अरुण के भाई विजय गोविल का मुंबई में बिज़नेस था। इसलिए अरुण 1974 में मुंबई चले आये। वैसे तो वह मुंबई बिजनेस करने आए थे, लेकिन उनका मन उस कार्य में बिलकुल नहीं लगता था। उन पर अभिनय का जुनून सवार हो गया और उन्होंने एक्टिंग का दामन थाम लिया। हालांकि, अभिनय में कॅरियर बनाने के बारे में उन्होंने कभी नहीं सोचा था। उनको लगने लगा की अभिनय के छेत्र में मैं अपना अलग मुकाम बना सकता हूँ।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 रामायण धारावाहिक के राम अरुण गोविल की जीवनी (हिंदी) biographies.lekhakkilekhni.in। अभिगमन तिथि: 28 मार्च, 2020।
  2. रामायण: राम के रोल के लिए पहले रिजेक्ट हो गए थे अरुण गोविल (हिंदी) aajtak.intoday.in। अभिगमन तिथि: 28 मार्च, 2020।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अरुण_गोविल&oldid=643547" से लिया गया