त्रिपक्षीय सन्धि  

त्रिपक्षीय सन्धि 1838 ई. में अंग्रेज़ों, अफ़ग़ानिस्तान के भगोड़े अमीर शाहशुजा और पंजाब के महाराज रणजीत सिंह के बीच लॉर्ड ऑकलैण्ड के शासनकाल में सम्पन्न हुई थी।

  • इस सन्धि के अनुसार शाहशुजा को सिक्ख सेना और ब्रिटिश आर्थिक सहायता से क़ाबुल की गद्दी पर पुन: बैठाने की बात तय हुई।
  • इसके बदले में रणजीत सिंह ने जितना प्रदेश जीता था, वह उसके अधिकार में रहने देना स्वीकार किया गया।
  • यह भी स्वीकार किया गया कि सिंध को अफ़गानिस्तान के अमीर शाहशुजा को सौंप दिया जायेगा।
  • सन्धि के द्वारा यह आशा भी की जाती थी कि शाहशुजा अंग्रेज़ों के हाथों की कठपुतली बनकर रह जाएगा।
  • इस आक्रमक सन्धि ने अन्तत: लॉर्ड ऑकलैण्ड की सरकार को 1838-1842 ई. के विनाशकारी अफ़ग़ान युद्ध में फँसा दिया।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 193 |


संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=त्रिपक्षीय_सन्धि&oldid=228315" से लिया गया