कर्नल फ़ेरे  

  • कर्नल फ़ेरे बड़ौदा के मल्हार राव के दरबार में ब्रिटिश रेजिडेंट था।
  • उसने गायकवाड़ के विरुद्ध कुशासन के कई आरोप लगाए थे।
  • एक कमीशन द्वारा इन आरोपों की जाँच किये जाने पर मल्हार राव को फ़ेरे के निर्देशन में प्रशासन में सुधार करने के लिए अठारह महीने का समय दिया गया।
  • यह समय प्रशासन में किसी भी प्रकार के सुधार के बिना ही बीत गया।
  • 1875 ई. में अंग्रेज़ कर्नल फ़ेरे ने मल्हार राव पर आरोप लगाया कि उसने मुझे ज़हर देकर मारने की कोशिश की है।
  • मल्हार राव पर मुक़दमा चलाया गया और अंत में उसे गद्दी से उतार दिया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कर्नल_फ़ेरे&oldid=206061" से लिया गया