जेम्स आउटरम  

जेम्स आउटरम गदर के समय अंग्रेज़ों का एक वीर नायक था। वह 1819 ई. में एक कैडेट (शिक्षार्थी सैनिक अधिकी) के रूप में भारत आया। 1820 में अपनी चुस्ती के कारण वह पूना में एडजुटेंट बना दिया गया। जेम्स आउटरम को 1825 ई. में ख़ानदेश भेजा गया। वहाँ के भील उससे बहुत प्रभावित हुए। उसने भीलों को पैदल सेना में भर्ती किया। उनको हल के हथियार दिये। यह पलटन स्थानीय चोरों की लूटमार रोकने में बहुत ही सफल सिद्ध हुई। 1835 से 1838 ई. तक वह गुजरात में पोलिटिकल एजेंट रहा। 1838 ई. में उसने अफ़ग़ान युद्ध में भाग लिया।

न्यायप्रिय व्यक्ति

जेम्स आउटरम ने ग़ज़नी के क़िले के सामने शत्रुओं के झण्डे छीन लेने में व्यक्तिगत रीति से वीरता प्रदर्शित की, जिसके कारण उसका बहुत नाम हुआ। 1839 ई. में वह सिन्ध में पोलिटिकल एजेंट नियुक्त हुआ। उसने अपने उच्च अधिकारी सर चार्ल्स जेम्स नेपियर की नीति का विरोध करके, जिसके फलस्वरूप सिन्ध के अमीरों से युद्ध हुआ, अपने सबल व्यक्तित्व तथा अपनी न्यायप्रियता का परिचय दिया। परन्तु जब युद्ध छिड़ गया, तो उसने 800 बलूचियों के हमले से हैदराबाद रेजिडेंसी की वीरतापूर्वक रक्षा की। इसके फलस्वरूप सर चार्ल्स नेपियर ने उसकी तुलना प्रसिद्ध फ़्राँसीसी वीर बेयार्ड से की।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जेम्स_आउटरम&oldid=228151" से लिया गया