कॉर्नवॉलिस कोड  

कॉर्नवॉलिस कोड का निर्माण लॉर्ड कॉर्नवॉलिस (1786-1793 ई.) ने मई, 1793 ई. में करवाया था। यह कोड ‘शक्तियों के पृथकीकरण’ सिद्धान्त पर आधारित था। लॉर्ड कॉर्नवॉलिस के समय यह कोड सर जॉर्ज बार्लो (1805-1807 ई.) द्वारा तैयार किया गया, जो बाद में कॉर्नवॉलिस की मृत्यु के बाद कार्यकारी गवर्नर-जनरल बना।

  • कॉर्नवॉलिस कोड उन सभी प्रशासकीय सुधारों पर आधारित था, जो लॉर्ड कॉर्नवॉलिस ने अपने शासन काल के दौरान किये थे।
  • बाद में इसी के आधार पर बंगाल और सम्पूर्ण भारत में सिविल सेवा की स्थापना हुई।
  • इस कोड का सबसे बड़ा दोष यह था कि इसके अंतर्गत ईस्ट इण्डिया कम्पनी की सभी उच्च सेवाओं व उच्च पदों से भारतियों को पूर्णत: वंचित कर दिया गया।
  • ये सेवाएँ पूर्णरूप से यूरोपीयों के लिए सुरक्षित कर दिये जाने से भारत जैसे ग़रीब देश के लिए बहुत ख़र्चीली साबित हुई।
  • यही नहीं, भारत जैसे विशाल देश के लिए अधिकारियों की संख्या भी अत्यन्त न्यून रखी गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कॉर्नवॉलिस_कोड&oldid=622493" से लिया गया