ला बोर्दने  

ला बोर्दने भारत में पहला आंग्ल-फ़्राँसीसी युद्ध छिड़ने के समय मॉरीशस का फ़्राँसीसी गवर्नर-जनरल था। उसमें नेतृत्व की सहज क्षमता थी।

  • भारतीय समुद्रों में कोई फ़्राँसीसी जंगी बेड़ा न होने पर ला बोर्दने ने फ़्राँसीसी व्यापारिक जहाजों और देशी नौकाओं का एक बेड़ा तैयार किया और कोरोमंडल तट पर पहुँचा।
  • उसने पेयटन के नेतृत्व वाले ब्रिटिश जंगी बेड़े को बंगाल की खाड़ी की तरफ़ भगा दिया और सितम्बर, 1745 ई. में मद्रास पर अधिकार कर लिया।
  • फ़्राँसीसियों की यह उल्लेखनीय सफलता थी, परन्तु ला बोर्दने इसके बाद ही डूप्ले से झगड़ बैठा।
  • एक तूफ़ान ने उसके बेड़े को तहस-नहस कर दिया। फिर भी 1748 ई. में एक्स ला शैपेले की संधि होने तक मद्रास फ़्राँसीसी क़ब्ज़े में रहा।
  • 1748 ई. की संधि के अनुसार मद्रास अंग्रेज़ों को वापस मिल गया।
  • 1759 ई. में अवकाश ग्रहण करने पर ला बोर्दने ने अपने संस्मरण प्रकाशित कराये।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ला_बोर्दने&oldid=500473" से लिया गया