मीरन  

मीरन बंगाल के नवाब मीर ज़ाफ़र (1757-1760 ई.) का पुत्र तथा भावी उत्तराधिकारी था।

  • मीर ज़ाफ़र ने 10 जून, 1757 ई. को अंग्रेज़ों से एक गुप्त सन्धि कर ली थी।
  • 23 जून, 1757 ई. को नवाब सिराजुद्दौला तथा अंग्रेज़ों के बीच 'प्लासी का युद्ध' हुआ।
  • इस युद्ध में मीर ज़ाफ़र ने अपने स्वामी सिराजुद्दौला की कोई मदद नहीं की।
  • नवाब सिराजुद्दौला युद्ध में हारने के बाद भाग निकला।
  • मीर ज़ाफ़र के पुत्र मीरन ने उसका पीछा करके उसे गिरफ़्तार कर लिया।
  • नवाब को मुर्शिदाबाद वापस लाकर 1757 ई. में मीरन ने उसकी हत्या कर दी।
  • इसके कुछ दिन बाद ही एक दिन बिजली गिरने से मीरन की भी मृत्यु हो गयी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मीरन&oldid=267950" से लिया गया