तेजा सिंह  

  • तेजा सिंह प्रथम सिक्ख युद्ध (1845-46 ई.) छिड़ने के समय सिक्ख सेना का प्रधान सेनापति था।
  • वह युद्ध में विजय पाने की अपेक्षा अंग्रेज़ों की सदभावना प्राप्त करने के लिए अधिक प्रयत्नशील रहा।
  • उसके विश्वासघात के कारण ही सिक्खों को युद्ध में पराजय का मुँह देखना पड़ा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भट्टाचार्य, सच्चिदानन्द भारतीय इतिहास कोश, द्वितीय संस्करण-1989 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, 192।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तेजा_सिंह&oldid=207024" से लिया गया