मिर्ज़ा इस्माइल  

मिर्ज़ा इस्माइल
मिर्ज़ा इस्माइल
पूरा नाम सर मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल 'अमीन-उल-मुल्क'
जन्म 23 अक्टूबर, 1883
मृत्यु 5 जनवरी, 1959
कर्म भूमि भारत
विद्यालय 'सेंट्रल कालेज', बंगलोर
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी नागपुर, अलीगढ़, आगरा, बनारस, पटना, ढाका आदि विश्वविद्यालयों के दीक्षांत भाषणों से मिर्ज़ा इस्माइल की शिक्षा संबंधी योग्यता का पता चलता है।

सर मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल 'अमीन-उल-मुल्क' (अंग्रेज़ी: Sir Mirza Muhammad Ismail 'Amin-ul-Mulq', जन्म- 23 अक्टूबर, 1883; मृत्यु- 5 जनवरी, 1959) सन 1908 में मैसूर के महाराजा के सहायक सचिव थे, जो कुछ समय बाद मैसूर के दीवान भी नियुक्त हुए।[1]


  • मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल की शिक्षा मैसूर और 'सेंट्रल कालेज', बंगलोर में हुई थी।
  • वर्ष 1908 में वे महाराजा मैसूर के सहायक सचिव और कुछ काल बाद मैसूर के दीवान नियुक्त हुए थे।
  • 'बंबई विश्वविद्यालय' के वाइस चांसलर पद पर भी मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल ने कार्य किया था।
  • लंदन में होने वाली पहली और दूसरी राउंड टेबुल कान्फ़्रेंस में ये भी शामिल हुए थे।
  • मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल 'अमीन-उल-मुल्क' भारत में शिक्षा संबंधी विषयों के शुभचिंतकों में से एक थे।
  • नागपुर, अलीगढ़, आगरा, बनारस, पटना, ढाका आदि विश्वविद्यालयों के दीक्षांत भाषणों से उनकी शिक्षा संबंधी योग्यता का पता चलता है।
  • मैसूर लौटने से पहले मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल जयपुर राज्य के दीवान भी रहे थे।
  • सन 1959 में मिर्ज़ा मुहम्मद इस्माइल का देहांत हुआ।[2]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मिर्ज़ा इस्माइल (हिन्दी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 13 दिसम्बर, 2016।
  2. रज़िया सज्जाद ज़हीर, हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2, पृष्ठ संख्या 17

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मिर्ज़ा_इस्माइल&oldid=579011" से लिया गया