विन्दवास का युद्ध  

विन्दवास का युद्ध सर आरकूट के नेतृत्व में अंग्रेज़ों की सेना और काउण्ट द लाली के नेतृत्व में फ़्राँसीसी सेना के बीच 1760 ई. में हुआ था।[1]

  • इस युद्ध में फ़्राँसीसियों को निर्णायक रूप से पराजय का सामना करना पड़ा।
  • बुसी बन्दी बना लिया गया और काउण्ट द लाली पांडिचेरी भाग गया।
  • जनवरी, 1761 ई. में लाली को आत्म समर्पण करने के लिए विवश किया गया।
  • विन्दवास के युद्ध में अंग्रेज़ों की विजय ने लम्बे समय से चले आने वाले आंग्ल-फ़्राँसीसी युद्ध का पटाक्षेप कर दिया।
  • युद्ध के परिणामस्वरूप भारत में फ़्राँसीसी सत्ता हमेशा के लिए समाप्त हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 434 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=विन्दवास_का_युद्ध&oldid=305837" से लिया गया