बहाउद्दीन गुरशास्प  

बहाउद्दीन गुरशास्प सुल्तान गयासुद्दीन तुग़लक़ (1320-25 ई.) का भांजा था। जिस समय सुल्तान मुहम्मद तुग़लक़ 1325 ई. में गद्दी पर बैठा, बहाउद्दीन गुरशास्प दक्षिण में सागर का हाक़िम था। उसने मुहम्मद तुग़लक़ को दिल्ली का सुल्तान मानने से इन्कार कर उसके विरुद्ध 1326-1327 ई. में विद्रोह कर दिया। बहाउद्दीन गुरशास्प पराजित करके बंदी बना लिया गया और उसी रूप में दिल्ली भिजवा दिया गया, जहाँ जीवित दशा में ही उसकी खाल खिंचवा ली गई। उसके शव को दिल्ली में घुमाया गया, ताकि राजद्रोह करने वालों को एक चेतावनी मिल सके।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बहाउद्दीन_गुरशास्प&oldid=227406" से लिया गया