फ़ीरोज़ ख़ाँ  

फ़ीरोज़ ख़ाँ सूर वंश की स्थापना करने वाले शेरशाह सूरी (1540-1545 ई.) का पौत्र था। वह अपने पिता इस्लामशाह (1545-1554 ई.) की मृत्यु के बाद राजगद्दी पर बैठा था।

  • 'शेरशाह सूरी' की मृत्यु के बाद उसका एकमात्र इकलौता पुत्र 'इस्लामशाह' गद्दी पर बैठा था।
  • इस्लामशाह के बाद फ़ीरोज़ ख़ाँ को सूर वंश की सत्ता प्राप्त हुई।
  • राज्य की सत्ता प्राप्ति के समय फ़ीरोज़ ख़ाँ अल्प-वयस्क था।
  • इस्लामशाह के पश्चात् ही उसके उत्ताधिकारियों के समय सूर-साम्राज्य 5 भागों में बँट गया था।
  • फ़ीरोज़ ख़ाँ की अल्पवयस्कता का लाभ उठाकर उसके मामा 'मुबारिज़ ख़ाँ' ने उसकी हत्या कर दी।
  • बाद में वह स्वयं 'मुहम्मद आदिलशाह' (1554-1556 ई.) के नाम से तख़्त पर बैठ गया।
  • इस प्रकार फ़ीरोज़ ख़ाँ की हत्या के साथ ही सूर वंश का अन्त हो गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=फ़ीरोज़_ख़ाँ&oldid=233165" से लिया गया