दिलावर ख़ाँ ग़ोरी  

दिलावर ख़ाँ ग़ोरी, शाहबुद्दीन मुहम्मद ग़ोरी का वंशज होने का दावा करने वाला एक सरदार था।

  • वह 1392 ई. में मालवा का सूबेदार नियुक्त किया गया।
  • जब तैमूर ने 1398 ई. में दिल्ली पर आक्रमण किया, तो चारों ओर अराजकता उत्पन्न हो गई।
  • इस अराजकता का लाभ उठाकर दिलावर ख़ाँ ग़ोरी मालवा का स्वतंत्र शासक बन बैठा।
  • पाँच वर्ष शासन करने के पश्चात् उसकी मृत्यु हो गई।
  • 1406 ई. में उसका पुत्र 'अल्प ख़ाँ' गद्दी पर बैठा, और उससे मालवा में एक नये राजवंश का प्रचलन हुआ।
  • मालवा स्वाधीन राज्य के रूप में 1561 ई. तक बचा रहा, जबकि मुग़ल सम्राट अकबर ने उसे विजय करके अपने अधिकार में कर लिया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दिलावर_ख़ाँ_ग़ोरी&oldid=265390" से लिया गया