आसफ खाँ द्वितीय  

आसफ खाँ द्वितीय मिर्जा वदीउज्जमाँ के पुत्र थे और इनका जन्म काजवीन्‌ नामक स्थान पर हुआ था। इनका असल नाम मिर्ज़ा जाफरबेग था और लोग इन्हें अलिफ खां भी कहते थे। सन्‌ 1577 ई. में ये अपने मामा के पास भारत आए। इनके मामा अकबर के वजीर थे और उनकी उपाधि आसफ खां थी। मामा की सिफरिश पर अकबर ने इनकी नियुक्ति 'बख्शी' के पद पर कर दी। मामा की मृत्यु के पश्चात्‌ इन्हें आसफ खां की उपाधि मिल गई। ये कवि भी थे और सुपंडित भी। मुल्ला अहमद के मरने पर अकबर के आदेश से इन्होंने 'तारीख अलफ़ी' नामक इतिहास ग्रंथ लिखा। 1598 ई. में अकबर ने इन्हें 'वजीर आला' (प्रधान मंत्री) बना दिया। जहांगीर के शासनकाल में भी इन्हें पर्याप्त सम्मान मिला। 'शीरीं या खुसरी' नामक उत्कृष्ट काव्य की रचना इन्होंने ही की। 1612 ई. में इनका देहावसान हो गया।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 461 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आसफ_खाँ_द्वितीय&oldid=631586" से लिया गया