इंसाफ़ की ज़ंजीर  

इंसाफ़ की ज़ंजीर मुग़ल बादशाह जहाँगीर द्वारा 1605 ई. में सिंहासनारूढ़ होने के तत्काल बाद लटकवायी गयी थी।

  • इस ज़ंजीर में 60 घण्टियाँ थीं। यह आगरा के क़िले में शाहबुरजी और यमुना नदी के तट पर स्थित एक पाषाण स्तम्भ के बीच स्थित थी।
  • किसी फ़रियादी द्वारा ज़ंजीर खींचने से सभी घण्टियाँ बज उठती थीं।
  • इंसाफ़ की ज़ंजीर द्वारा जहाँगीर की प्रजा का छोटे-से-छोटा प्राणी भी अपनी शिकायत सीधे सम्राट तक पहुँचा सकता था। इससे प्रजा के प्रति जहाँगीर के प्रेम और उसकी न्यायप्रियता का संकेत मिलता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 49 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=इंसाफ़_की_ज़ंजीर&oldid=516895" से लिया गया