सतपुड़ा बाघ अभयारण्य  

सतपुड़ा बाघ अभयारण्य
बाघ
विवरण 'सतपुड़ा बाघ अभयारण्य' मध्य प्रदेश में सतपुड़ा की बीहड़ पहाड़ियों में बसा हुआ है। यह अभयारण्य जैव विविधता से परिपूर्ण है।
राज्य मध्य प्रदेश
ज़िला होशंगाबाद
स्थापना 1981
कब जाएँ नवम्बर से जून
रेलवे स्टेशन पिपरिया, इटारसी
बस अड्डा पंचमढ़ी
संबंधित लेख पंचमढ़ी, मध्य प्रदेश
क्षेत्रफल 2133.30 वर्ग कि.मी.
विशेष पचमढ़ी पठार पर स्थित उद्यान में लड़ाई, शिकार, पशु, समारोह और लोगों के दैनिक जीवन के चित्रण वाली 130 से अधिक धूमील गुफ़ाएँ हैं, जो पुरातात्वियों को आकर्षित करती है।
अन्य जानकारी यहाँ मंदिरों और किलेबंदी के कई खंडहर भी मौजूद हैं, जहाँ चौथी और पंद्रहवी सदी में गोंड जनजाति का निवास स्थान हुआ करता था।

सतपुड़ा बाघ अभयारण्य मध्य प्रदेश के होशंगाबाद ज़िले में सतपुड़ा की बीहड़ पहाड़ियों में बसा हुआ है। यह अभयारण्य जैव विविधता से परिपूर्ण है। मध्य प्रदेश की सबसे ऊँची चोटी धूपगढ़ भी अभयारण्य में ही स्थित है। सूखे कांटेदार जंगलों से लेकर उष्णकटिबंधीय शुष्क पर्णपाती, नम पर्णपाती और अर्द्ध सदाबहार जंगलों की जैव विविधता के कारण यह क्षेत्र अद्वितीय है। उद्यान का क्षेत्र वन्य जीवन से समृद्ध है। बाघ अच्छी संख्या में पाये जाते है, लेकिन वह घने वन क्षेत्रों तक ही सीमित हैं।

क्षेत्रफल व स्थापना

'पंचमढ़ी वन्यजीव अभयारण्य' और 'बोरी वन्‍य जीवन अभयारण्‍य' के साथ यह बाघ अभयारण्य 2133.30 वर्ग कि.मी. के क्षेत्र पर फैला हुआ है। जैव सांस्कृतिक विविधता से संपन्न इस 'सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान' की स्थापना वर्ष 1981 में हुई थी। इसके बाद से ही यहाँ कुछ दुर्लभ पौधे और पशु प्रजातियाँ पलने लगी। राज्य का महत्त्वपूर्ण हिल स्टेशन पंचमढ़ी, इसी 'पंचमढ़ी वन्यजीव अभयारण्य' के क्षेत्र में स्थित है। मध्यप्र देश की सबसे ऊंची चोटी धूपगढ भी (1352 मीटर) उद्यान के अंदर स्थित है। आम तौर पर पहाड़ी ढलानों वाला यह इलाका घने जंगलों के साथ गहरी और संकरी घाटियाँ, नालें, आश्रय घाटियों और पानी के झरनों से सजा हुआ है।[1]

वनस्पति

सूखे कांटेदार जंगलों से लेकर उष्णकटिबंधीय शुष्क पर्णपाती, नम पर्णपाती और अर्द्ध सदाबहार जंगलों की जैव विविधता के कारण यह क्षेत्र अद्वितीय है। यहा सागौन, साल और मिश्रित वन प्रमुखता से दिखाई देते हैं। 'बोरी वन्यजीव अभयारण्य' बांस से समृद्ध है। इस क्षेत्र में फूल और गैर-फूल के पौधों की 1200 से अधिक किस्में पाई जाती हैं। उनमें से कुछ बहुत ही दुर्लभ और विलुप्तप्राय प्रजाति हैं, जो केवल पंचमढ़ी पठार जैसे बारह मासी धाराओं के साथ गहरी घाटियों में फैले क्षेत्र में विकसित होती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 सतपुड़ा बाघ अभयारण्य (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 24 जुलाई, 2013।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सतपुड़ा_बाघ_अभयारण्य&oldid=360392" से लिया गया