जहाँगीर महल, ओरछा  

जहाँगीर महल, ओरछा
जहाँगीर महल, ओरछा
विवरण जहाँगीर महल वीरसिंह देव ने अपने परम मित्र बादशाह जहांगीर के लिए बनवाया था।
निर्माण सन् 1518
निर्माता वीरसिंह देव
स्थान ओरछा
राज्य मध्य प्रदेश
अन्य जानकारी महल का प्रवेश द्वार पूर्व की ओर था किन्तु बाद में पश्चिम की ओर से एक प्रवेश द्वार बनवाया गया है। आजकल पूर्व वाला प्रवेश द्वार बंद रहता है तथा पश्चिम वाला प्रवेश द्वार पर्यटकों के आवागमन के लिए खोल दिया गया है।

जहाँगीर महल मध्य प्रदेश के ऐतिहासिक स्थान ओरछा में स्थित है।

इतिहास

ओरछा के राजा वीर सिंह जू देव के शासनकाल में एक बार दुर्भिक्ष पड़ गया, तभी धर्म भीरुओं की सलाह पर महाराज ने सन् 1518 ई. में ईष्टपूर्ति यज्ञ करके 52 इमारतों का शिलान्यास किया था। ओरछा स्टेट गजेटियर के पृष्ठ 23 पर इस बात का स्पष्ट उल्लेख है। 33 लाख की लागत से निर्मित मथुरा में केशव देव का मंदिर जिसकी विशालता और भव्यता को सहन न कर सकने के कारण धर्मांध औरंगजेब ने सन् 1669 में उसे तुड़वा दिया था। झांसी का दृढ़तम किला जहां से सन् 1857 के गदर में महारानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेज़ों पर गोले बरसाये थे। दतिया का वीरसिंह देव महल जो नौ खंडों का विशालकाय भवन है एवं ओरछा का जहांगीर महल इन 52 इमारतों में विशेष रूप से उल्लेखनीय है।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 सिंह, डॉ. विभा। ओरछा : स्थापत्य कला का अजब नमूना (हिन्दी) दैनिक ट्रिब्यून। अभिगमन तिथि: 14 फ़रवरी, 2015।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जहाँगीर_महल,_ओरछा&oldid=572326" से लिया गया