लक्ष्मण मंदिर, खजुराहो  

लक्ष्मण मंदिर, खजुराहो
लक्ष्मण मंदिर, खजुराहो
विवरण 'लक्ष्मण मंदिर' भारतीय आर्य स्थापत्य और वास्तुकला की एक नायाब मिसाल है। यह मंदिर मध्य प्रदेश में स्थित है और भगवान विष्णु को समर्पित है।
राज्य मध्य प्रदेश
ज़िला छतरपुर
निर्माता यशोवर्मन (चंदेल वंश)
निर्माण काल 930-950 ई.
प्रसिद्धि ऐतिहासिक तथा पर्यटन स्थल
संबंधित लेख खजुराहो, कंदारिया महादेव मन्दिर, पार्श्वनाथ मंदिर
अन्य जानकारी मंदिर के बाहरी हिस्से की दीवारों तथा चबूतरे पर युद्ध, शिकार, हाथी, घोड़ों, सैनिक, अप्सराऑं और मिथुनाकृतियों के दृश्य अंकित हैं। सरदल के मध्य में लक्ष्मी हैं, जिसके दोनों ओर ब्रह्मा एवं विष्णु हैं।

लक्ष्मण मंदिर (अंग्रेज़ी: Lakshmana Temple) मध्य प्रदेश के छतरपुर ज़िले में प्रसिद्ध पर्यटन स्थल खजुराहो में स्थित है। खजुराहो, भारतीय आर्य स्थापत्य और वास्तुकला की एक नायाब मिसाल है। खजुराहो को इसके अलंकृत मंदिरों की वजह से जाना जाता है, जो कि देश के सर्वोत्कृष्ठ मध्यकालीन स्मारक हैं। चंदेल शासकों ने इन मंदिरों की तामीर सन 900 से 1130 ईसवी के बीच करवाई थी। लक्ष्मण मंदिर भगवान विष्णु के सम्मान में बनाया गया था। पत्थर से बनी यह एक शानदार संरचना है। पश्चिमी समूह से संबंधित यह सबसे प्राचीन मंदिर है।

निर्माण

लक्ष्मण मंदिर से ही प्राप्त एक अभिलेख से पता चलता है कि चन्देल वंश की सातवीं पीढ़ी में हुए यशोवर्मन ने अपनी मृत्यु से पहले खजुराहो में बैकुंठ विष्णु का एक भव्य मंदिर बनवाया था। इससे यह पता चलता है कि यह मंदिर 930-950 के मध्य बना होगा, क्योंकि राजा यशोवर्मन ने 954 में मृत्यु पायी थी। इसके शिल्प और वास्तु की विलक्षणताओं से भी यही तिथि उपयुक्त प्रतीत होती है। यह अलग बात है कि यह मंदिर विष्णु के बैकुंठ रूप को समर्पित है, लेकिन नामांकरण मंदिर निर्माता यशोवर्मन के उपनाम 'लक्षवर्मा' के आधार पर हुआ है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=लक्ष्मण_मंदिर,_खजुराहो&oldid=557183" से लिया गया