किशनगढ़  

किशनगढ़ क़िला

किशनगढ़ मध्य राजस्थान, पश्चिमोत्तर भारत में स्थित है। यह जयपुर के दक्षिण में 80 किलोमीटर दूर गुंडालाओ झील के किनारे अवस्थित है। अंग्रेज़ शासन-काल में यह 858 वर्ग मील की एक देशी रियासत हुआ करता था। भारत की आज़ादी के बाद देशी रियासतों के विलयन के बाद यह अजमेर ज़िले की एक तहसील बन गया। 'भारतीय चित्रकला' के इतिहास में राजस्थानी चित्रकला की एक विशिष्ट शैली, जो 'किशनगढ़ शैली' के नाम से प्रसिद्ध है, को जन्म देने का गौरव इसे प्राप्त है।

इतिहास

किशनगढ़ नगर की स्थापना 1611 ई. में जोधपुर नरेश उदयसिंह के पुत्र किशनसिंह ने की थी। बड़े भाई से अनबन हो जाने के कारण किशनसिंह अजमेर चले आए और अपनी सेवाओं से मुग़ल बादशाह अकबर और जहाँगीर को प्रसन्न किया। जहाँगीर ने उन्हें 'महाराजा' की उपाधि और कुछ जागीर प्रदान कीं। उसी जागीर पर किशनगढ़ की स्थापना हुई, जो 1948 ई. में राजस्थान का हिस्सा बना।[1]

भौगोलिक स्थिति

किशनगढ़ अजमेर से रेल द्वारा 18 मील उत्तर-पश्चिम में स्थित है। यह 36.34 उत्तरी अक्षांश तथा 74. 53 पूर्व देशांतर पर स्थित है। लगभग एक वर्ग मील क्षेत्र में फैले हुए गुंडलाव झील के तट पर स्थित इस नगर तथा क़िले का दृश्य अत्यंत मनोहर है। नगर के पास ही मदनगंज नामक एक उपनगर विकसित हुआ है।

पारंपरिक दरवाज़ा, किशनगढ़, राजस्थान

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. किशनगढ़ (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 19 मार्च, 2014।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=किशनगढ़&oldid=633831" से लिया गया