आभानेरी  

आभानेरी
आभानेरी का सीढ़ीदार कुँआ
विवरण 'आभानेरी' राजस्थान के दौसा ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक ग्राम है। यह ग्राम अपने पुरातत्त्व अवशेषों के लिए प्रसिद्ध है।
राज्य राजस्थान
ज़िला दौसा
भौगोलिक स्थिति जयपुर से 95 कि.मी. की दूरी पर स्थित।
प्रसिद्धि पुरातत्त्व अवशेषों और ऐतिहासिक स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है।
कैसे पहुँचें जयपुर से आभानेरी की दूरी लगभग 95 कि.मी. है। यह जयपुर से आगरा की ओर चलने पर दौसा से आगे सिकंदरा क़स्बे से उत्तर में लगभग 12 कि.मी. की दूरी पर स्थित है।
संबंधित लेख हर्षत माता मंदिर, चाँद बावड़ी, राजस्थान का इतिहास
अन्य जानकारी आभानेरी में आठवीं-नवीं सदी में निर्मित दो स्मारक अब 'राष्ट्रीय धरोहर' घोषित किये जा चुके हैं, ये स्मारक हैं- 'हर्षत माता का मंदिर' और 'चांद बावड़ी'।

आभानेरी राजस्थान के दौसा ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक ग्राम है। यह जयपुर से 95 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। यह इतिहास की आभा से अभीभूत कर देने वाला स्थान है। यह छोटा-सा ग्राम किसी समय राजा भोज की राजधानी रहा था। आभानेरी से प्राप्त पुरातत्त्व अवशेषों को देखकर यह कहा जा सकता है कि यह स्थान लगभग तीन हज़ार वर्ष तक पुराना हो सकता है। यहाँ से प्राप्त कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण पुरावशेष 'अल्बर्ट हॉल म्यूजियम', जयपुर की शोभा बढ़ा रहे हैं।

इतिहास

पुरातत्त्व विभाग द्वारा यहां से प्राप्त पुरावशेषों को देखकर यह कहा जा सकता है कि आभानेरी गांव तीन हज़ार साल तक पुराना हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि यहां गुर्जर प्रतिहार राजा सम्राट मिहिर भोज ने शासन किया था। उन्हीं को राजा चांद के नाम से भी जाना जाता है। आभानेरी का वास्तविक नाम 'आभानगरी' था। कालान्तर में अपभ्रंश के कारण यह आभानेरी कहलाने लगा।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 आभानेरी-शिल्प की स्वर्णनगरी (हिन्दी) पिंकसिटी.कॉम। अभिगमन तिथि: 04 अक्टूबर, 2014।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आभानेरी&oldid=612448" से लिया गया