नागदा उदयपुर  

नागदा उदयपुर
नागदा उदयपुर
विवरण नागदा उदयपुर, राजस्थान से 13 मील

(लगभग 20.8 कि.मी.) उत्तर की ओर स्थित एक प्राचीन नगर है।

राज्य राजस्थान
ज़िला उदयपुर
Map-icon.gif गूगल मानचित्र
अन्य जानकारी प्राचीन काल के अनेक मंदिर, जिनका नष्टप्राय कलावैभव आज भी दर्शकों को मुग्ध कर देता है, एक झील के निकट बने हुए हैं। मेवाड़ के संस्थापक बप्पा रावल ने नागदा ही में अपनी राजधानी बनाई थी।
अद्यतन‎ 03:58, 22 जुलाई 2017 (IST)

नागदा उदयपुर, राजस्थान से 13 मील (लगभग 20.8 कि.मी.) उत्तर की ओर स्थित एक प्राचीन नगर है। यह प्राचीन नगर अधिकतर खंडहरों के रूप में पड़ा हुआ है। चारों ओर अरावली पहाड़ की चोटियाँ दिखाई देती हैं। प्राचीन काल के अनेक मंदिर, जिनका नष्टप्राय कलावैभव आज भी दर्शकों को मुग्ध कर देता है, एक झील के निकट बने हुए हैं। मेवाड़ के संस्थापक बप्पा रावल ने नागदा ही में अपनी राजधानी बनाई थी। 1226 ई. में दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिश ने आक्रमण करके इसे नष्ट-भ्रष्ट कर दिया। नागदा में हिन्दू एवं जैन मन्दिरों के अनेक स्मारक हैं।

इतिहास

नागदा पहले गुहिल शासकों की प्राचीन राजधानी रह चु्का है। 661 ई. (संवत् 718) का अभिलेख इस स्थान की प्राचीनता को प्रमाणित करता है, यह पुरातात्विक सामग्री की शैली के आधार पर उतना प्राचीन प्रतीत नहीं होता है। यहाँ के प्राचीन स्मारक समय के साथ नष्ट हो गये होंगे। यहाँ से प्राप्त 1026 ई. के एक अभिलेख के अनुसार, गुहिल शासक श्रीधर ने यहाँ के कुछ मंदिरों का निर्माण करवाया था, वर्त्तमान का सास-बहू मंदिर इन्हीं मंदिरों में है। शैलीगत समानता के आधार पर भी ये मंदिर 10वीं और 11 वीं शताब्दी में निर्मित प्रतीत होते हैं। कहा जाता है कि इन मंदिरों की स्थापना सहस्रबाहु नामक राजा के द्वारा करवाई गई थी, लेकिन चूँकि गुहिल वंश के इतिहास में इस नाम से किसी भी शासक की चर्चा नहीं की गई है। अतः यह तर्कसंगत प्रतीत नहीं होता।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नागदा_उदयपुर&oldid=613082" से लिया गया