गंगा माता मंदिर, जयपुर  

गंगा माता मंदिर जयपुर, राजस्थान का प्रसिद्ध हिन्दू धार्मिक स्थल है। यह जयपुर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में शामिल किया जाता है। जयपुर के महाराजा सवाई माधोसिंह द्वितीय ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था। 'गोविंद देवजी मंदिर' के पीछे जयनिवास उद्यान में बना गंगा माता मंदिर कई मायनों में ख़ास है। यहाँ का स्थापत्य, शिल्प, खूबसूरती और विशेषताएं ही दर्शनीय नहीं हैं, बल्कि ख़ास हैं इस मंदिर के निर्माण के पीछे राजपरिवार के सदस्यों की भावनाएं।

स्थिति

"आस्था की नगरी" और "छोटी काशी" कहलाने वाले 'गुलाबी शहर' जयपुर की बात ही कुछ निराली है। यहां के महल, दुर्ग, प्राचीरें और मंदिर सिर्फ स्थापत्य का नायाब नमूना ही नहीं हैं, जयपुर का हर पत्थर एक कहानी कहता है। इतिहास की तह में जाएं तो जयपुर के बारे में ऐसी कहानियां सामने आती हैं, जिन पर आज के युग में विश्वास करना कठिन है। जयपुर का शाही ठाठ सिर्फ दिखावटी नहीं था, और न ही यह शान शौकत यहां के राजा महाराजाओं की सनक थी। जयपुर शौक और शाही आदतों का शहर है। यहां श्रद्धा भी एक रिवाज के साथ निबाही गई है। कुछ ऐसा ही जयपुर के 'गोविंद देवजी मंदिर' में स्थित 'गंगा माता मंदिर' के बारे में कहा जा सकता है।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 गंगा माता मंदिर (हिन्दी) पिंकसिटी.कॉम। अभिगमन तिथि: 26 दिसम्बर, 2014।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गंगा_माता_मंदिर,_जयपुर&oldid=616568" से लिया गया