मिश्रधातु  

मिश्रधातु (अंग्रेज़ी: ऐलुमिनियम (Al)loys) धातुओंअधातुओं या परस्पर धातुओं को एक दूसरे से सरल अनुपात में मिलाने पर बने पदार्थ को कहते हैं। एक मिश्रधातु धातुओं या किसी अन्य तत्त्व का मिश्रण होता है। यह दो या दो से अधिक तत्वों का ठोस मिश्रण हो सकता है, जिसमें से कम से कम एक तत्त्व मिश्रण होना चाहिए। इसके अलावा, द्रव अवस्था में मिश्रधातु समांगी होते हैं, लेकिन ठोस अवस्था में वे समांगी या विषमांगी दोनों हो सकते हैं।

भौतिक गुण

  • मिश्रधातुओं के भौतिक गुण उनके घटक धातुओं के गुणों से भिन्न होते हैं। जब पारा किसी धातु से मिलकर मिश्रधातु बनाता है तो उसे अमलगम कहते हैं।
  • मिश्रधातु में कम से कम एक धात्विक तत्त्व अवश्य होना चाहिये।
  • इनकी कठोरता घटक धातुओं से अधिक होती है।
  • मिश्रधातु में तत्वों के रासायनिक गुण बरकरार रहते हैं, लेकिन इसके कुछ भौतिक गुणों में बदलाव किया जा सकता है।

वर्तमान समय में सबसे महत्वपूर्ण मिश्रधातु इस्पात (स्टील) है। इस्पात में कई उपयोगी गुण पाए जाते हैं, जैसे- जंग प्रतिरोधकता, लचीलापन एवं कठोरता आदि।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मिश्रधातु&oldid=658794" से लिया गया
<