भावविवेक बौद्धाचार्य  

भावविवेक बौद्ध धर्म के प्रसिद्ध महान् तार्किक तथा प्रकाण्ड पण्डित थे। माध्यमिक आचार्य-परम्परा में उनका विशिष्ट स्थान है।

  • आचार्य नागार्जुन की 'मूलमाध्यमिककारिका' की टीका 'प्रज्ञाप्रदीप', 'मध्यमकहृदय' एवं उसकी वृत्ति 'तर्कज्वाला' तथा 'मध्यमकार्थसंग्रह' आदि इनकी प्रमुख रचनाएँ हैं।
  • तर्कज्वाला इनकी विशिष्ट रचना है, जो विद्वानों में अत्यधिक चर्चित है।
  • इसमें उन्होंने बौद्ध एवं बौद्धेतर सभी दर्शनों की स्पष्ट एवं विस्तृत आलोचना की है।
  • दुर्भाग्य से आज भावविवेक की कोई भी रचना संस्कृत में उपलब्ध नहीं है।
  • भावविवेक परमार्थत: शून्यवादी होते हुए भी व्यवहार में बाह्यार्थवादी हैं, यह उनकी रचनाओं के अनुशीलन से स्पष्ट है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भावविवेक_बौद्धाचार्य&oldid=604084" से लिया गया