चंद्रकीर्ति  

चंद्रकीर्ति (उत्कर्ष 600 से 650 ई.) बौद्ध तर्कशास्त्र के प्रासंगिक मत के मुख्य प्रतिनिधि थे। इन्होंने बौद्ध साधु नागार्जुन के विचारों पर 'प्रसन्नपद' नामक प्रसिद्ध टीका लिखी थी। हालांकि नागार्जुन की व्याख्या में पहले से कई टीकाएं थीं, लेकिन चंद्रकीर्ति की टीका इनमें सबसे प्रामाणिक बन गई। मूल रूप से संस्कृत में संरक्षित यह एकमात्र टीका है।[1]

जन्म तथा शिक्षा

तिब्बती इतिहास लेखक तारानाथ के कथनानुसार चंद्रकीर्ति का जन्म दक्षिण भारत के किसी 'समंत' नामक स्थान में हुआ था। चंद्रकीर्ति बाल्यकाल से ही ये बड़े प्रतिभाशाली थे। बौद्ध धर्म में दीक्षित होकर इन्होंने त्रिपिटकों का गंभीर अध्ययन किया। थेरवादी सिद्धांत से असंतुष्ट होकर ये महायान दर्शन के प्रति आकृष्ट हुए थे। उसका अध्ययन इन्होंने आचार्य कमलबुद्धि तथा आचार्य धर्मपाल की देखरेख में पूर्ण किया था। कमलबुद्धि 'शून्यवाद' के प्रमुख आचार्य बुद्धपालत तथा आचार्य भावविवेक (भावविवेक या भव्य) के पट्ट शिष्य थे।[2]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अन्य टीकाएं सिर्फ़ तिब्बती अनुवादों में उपलब्ध हैं
  2. 2.0 2.1 चंद्रकीर्ति (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 19 अप्रैल, 2014।
  3. 8वें परिच्छेद से लेकर 16वें परिच्छेद तक
  4. संख्या 2, कलकत्ता, 1951

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चंद्रकीर्ति&oldid=613048" से लिया गया