महावस्तु  

महावस्तु एक प्रसिद्ध बौद्ध ग्रन्थ है। यह बौद्धों के हीनयान पंथ का एक प्रसिद्ध प्राचीन विनय-ग्रन्थ है। महावस्तु का अर्थ है- 'महान विषय' या 'कथा'। इस ग्रन्थ में भगवान बुद्ध के जीवन को केन्द्र बिन्दु मानकर छ्ठी शताब्दी ई. के इतिहास को प्रस्तुतु किया गया है।

  • इस ग्रन्थ में बोधिसत्व की दशभूमियों का विस्तृत वर्णन किया गया है।
  • बुद्धचरित्र महावस्तु का विषय है, इस ग्रन्थ की भाषा मिश्र संस्कृत है।
  • ईसा के 200 वर्ष पूर्व इस ग्रन्थ का निर्माण सम्भव है।[1]
  • महावस्तु बौद्ध धर्म के 6 ऐसे चुने हुए ग्रंथों में से है, जो पाली के स्थान पर संस्कृत में रचे गये।
  • इन 6 ग्रन्थों के नाम इस प्रकार हैं- महावस्तु, ललित-विस्तर, बुद्धचरित, दिव्यावदान, लंकावतार और सद्धर्मपुंडरीक।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=महावस्तु&oldid=613859" से लिया गया