ब्रह्म विहार  

ब्रह्म विहार संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है- 'ब्रह्म-स्वर्ग में निवास'। बौद्ध दर्शनशास्त्र में मानसिक विकास की चार उच्च रीतियाँ बताई गई हैं, जिनसे मनुष्य ब्रह्म स्वर्ग में पुनर्जन्म ले सकता है, ये चार रीतियाँ हैं[1]-

  1. सहानुभूति का तत्त्व, जो जीवों को प्रसन्नता देता है।[2]
  2. करुण का आदर्श तत्त्व, जो जीवों के दु:ख हरता है; करुणा के कारण बोधिसत्त्व निर्वाण में प्रवेश को स्थगित करते हैं, ताकि अन्य लोगों की मुक्ति के लिए काम किया जा सके।
  • आनंद (मुदिता) का आदर्श तत्त्व, आनंद-प्राप्त लोगों को देखकर आनंदित होना।
  • समबुद्धि का आदर्श तत्त्व, सभी वस्तुओं के प्रति आसक्ति से मुक्त होना और जीवों के प्रति उदासीन होना।[3]
  • इन्हें चार 'अपरामानस' (अनंत अनुभव) कहते हैं, क्योंकि ये चारों अनंत जीवों को प्रसन्नता देते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-4 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 103 |
  2. संस्कृत में मैत्री; पालि में नेता
  3. संस्कृत में उपेक्षा; पालि में उपेक्खा

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ब्रह्म_विहार&oldid=504157" से लिया गया